One Word Substitution (अनेक शब्दों के लिए एक शब्द)

One Word Substitution Examples:

अ , आ से शुरू होने वाले शब्द :-

1. अपने आप उत्पन्न होने वाला = स्वत्पन्न
2. आतंक फ़ैलाने वाला = आतंकवादी
3. अत्यंत लगन व परिश्रम करने वाला = अध्यवसायी
4. आशा से अधिक = आशातीत
5. आदि से अंत तक = अघन्त
6. अगहन और पूस में पड़ने वाली ऋतु = हेमन्त
7. अचानक हो जाने वाला = आकस्मिक
8. अच्छा -बुरा समझने की शक्ति का अभाव = अविवेक
9. अच्छे चरित्र वाला = सच्चरित्र
10. अंडे से जन्म लेने वाला = अण्डज
11. अत्यंत सुंदर स्त्री = रूपसी
12. अत्यधिक वृष्टि = अतिवृष्टि
13. अधिक दिन तक जीने वाला – चिरंजीवी
14. अधिकार या कब्जे में आया हुआ = अधिकृत
15. अध्ययन का काम करने वाला = अध्येता
16. अध्यापन का काम करने वाला = अध्यापक
17. अनुकरण करने योग्य =अनुकरणीय
18. अनुचित बात के लिए आग्रह = दुराग्रह
19. अनुचित या बुरा आचरण करने वाला = दुराचारी
20. अन्न को पचाने वाली जठर की अग्नि = जठराग्नि
21. अन्य से संबंध रखने वाला = अनन्य
22. अपना हित चाहने वाला = स्वार्थी
23. अपनी इच्छा के अनुसार काम करने वाला = इच्छाचारी
24. अपनी इच्छा से दूसरों की सेवा करने वाला = स्वंयसेवक
25. अपनी धुन में मस्त रहने वाला = झक्की
26. अपनी विवाहित पत्नी से उत्पन्न पुत्र = औरस पुत्र
27. अपनी हत्या स्वंय करने वाला = आत्महत्या
28. अपने कर्तव्य का निर्णय न करने वाला = किंकर्तव्यविमूढ़
29. अपने को पंडित मानने वाला = पंडितम्मन्य
30. अपने देश के साथ विश्वासघात करने वाला = देशद्रोही
31. एक देश से दूसरे देश में सामान जाना = निर्यात
32. अपने देश से प्यार करने वाला = देशभक्त
33. अपने पति के प्रति अनन्य अनुराग रखने वाली = पतिव्रता
34. अपने पद से हटाया हुआ = पदच्युत
35. अपने परिवार के साथ = सपरिवार
36. अपने प्राण आप लेने वाला = आत्मघाती
37. अपने बल पर निर्भर रहने वाला = स्वावलम्बी
38. अपने हिस्से या अंश के रूप में कुछ देना = अंशदान
39. अपराध और उनपर दंड देने के नियम निर्धारित करने वाला प्रश्न = दण्डसंहिता
40. अभिनय करने वाला पुरुष = अभिनेता
41. अभिनय करने वाली स्त्री = अभिनेत्री
42. अभी-अभी जन्म लेने वाला = नवजात
43. अर्थ या धन से संबंध रखने वाला = आर्थिक
44. अल्प वेतन भोगने वाला = अल्पवेतनभोगी
45. अवश्य होनेवाला = अवश्यम्भावी
46. अवसर के अनुसार बदल जाने वाला = अवसरवादी
47. अविवाहित लडकी = कुमारी
48. आँख की बीमारी = दृष्टिदोष
49. आँखों के समक्ष = प्रत्यक्ष
50. आँखों से परे = परोक्ष
51. आँवला , हर्र , बहेड़ा = त्रिफला
52. आकाश को चूमने वाला =गगनचुम्बी
53. आग से झुलसा हुआ = अनलदग्ध
54. आकाश में उड़ने वाला = नभचर
55. आगे का विचार करने वाला = अग्रसोची
56. आगे होने वाला = भावी
57. आज्ञा का पालन करने वाला = आज्ञाकारी
58. आटा पीसने वाली स्त्री = पिसनहारी
59. आड़ या परदे के लिए रथ या पालकी को ढकने वाला कपड़ा = ओहार
60. आढत का व्यापार करने वाला = आढतिय
61. आत्मा या परमात्मा का द्वैत न माननेवाला = अद्वैतवादी
62. आधे से अधिक लोगों की सम्मिलित एक राय = बहुमत
63. आय से अधिक व्यर्थ खर्च करने वाला = फिजूलखर्ची
64. लेन -देन का लेखा करने वाला = लेखाकार
65. आया हुआ = आगत
66. आयोजन करने वाला व्यक्ति = आयोजक
67. आलोचना करने वाला = आलोचक
68. आलोचना के योग्य = आलोच्य
69. आशुलिपि जाननेवाला = आशुलिपिक








70. अथिति की सेवा करनेवाला = आतिथ्य
71. अपने जीवन का स्वलिखित इतिहास = आत्मकथा
72. अपने आप को धोखा देने वाला = आत्मवन्च्क
73. अधिक बोलने वाला = वाचाल
74. अधिक व्यय खर्च करने वाला = अपव्ययी
75. अच्छे मार्ग पर चलने वाला = सुपथगामी
76. आत्मा से संबंध रखने वाला = आध्यात्म
77. अपने देश में बना हुआ = स्वदेशी
78. अक्षर-अक्षर करके या मिलता हुआ = अक्षरशः
79. अपने देश से दूसरे देश में जाकर रहने वाला = प्रवासी
80. आलस करने वाला = आलसी
इ , ई से शुरू होने वाले शब्द :-
81. ईश्वर में आस्था रखने वाला = आस्तिक
82. ईश्वर पर विश्वाश न रखने वाला = नास्तिक
83. इतिहास का ज्ञाता = इतिहासज्ञ
84. इन्द्रियों को जितने वाला = जितेन्द्रिय
85. इन्द्रियों की पहुंच से बाहर = अतीन्द्रिय
86. इतिहास से संबंध रखने वाला = ऐतिहासिक
87. इन्द्रियों को वश में करने वाला = इन्द्रियजित
88. इन्द्रियों पर किया जानेवाला वश = इन्द्रियाविग्रह
89. इतिहास को जानने वाला = इतिहासज्ञ
90. इस लोक से संबंधित = ऐहिक
91. इंद्रजाल करने वाला = ऐन्द्रजालिक
92. इन्द्रियों से संबंधित = ऐंद्रिक
93. इस लोक से संबंध रखने वाला = ऐहलौकिक

उ , ऊ से शुरू होने वाले शब्द :-

94. उत्तर -पूर्व का कोण = ईशान
95. उच्च न्यायालय का न्यायधीश = न्यायमूर्ति
96. उपचार या उपरी दिखावे के रूप में होने वाला = औपचारिक
97. उसी समय का = तत्कालीन
98. ऊपर आने वाला श्वास = उच्छवास
99. ऊपर कहा हुआ = उपर्युक्त
100. ऊपर की ओर जाने वाला = उध्र्वगामी
101. ऊपर की ओर बढती हुई साँस = उध्र्वश्वास
102. ऊपर लिखा गया = उपरिलिखित
103. उपजाऊ = उर्वर
104. किसी की हँसी उड़ाना = उपहास
105. उपकार के प्रति उपकार करना =प्रत्युपकार

ए , ऐ से शुरू होने वाले शब्द :-

106. एक ही समय में वर्तमान = समसामयिक
107. एक स्थान से दूसरे स्थान को हटाया हुआ = स्थानांतरित
108. एक भाषा की लिखी हुई बात को दूसरी भाषा में लिखना या कहना = अनुवाद
109. ऐसा वृत जो मरने पर ही समाप्त हो = आमरणव्रत
110. ऐसा ग्रहण जिसमें सूर्य या चन्द्रमा का बिम्ब पूरी तरह ढक जाए = खग्रास
111. ऐसा जो अंदर से खाली हो = खोखला
112. ऐसा तर्क जो देखने पर ठीक हो , किन्तु वैसा न हो = तर्काभास
113. एक व्यक्ति द्वारा चलाई जाने वाली शासन प्रणाली = तानाशाही
114. एक राजनितिक दल छोडकर दूसरे दल में शामिल होने वाला = दलबदलू
115. एक देश से माल दूसरे देश में ले जाने की क्रिया = निर्यात
116. ऐतिहासिक युग के पूर्व का = प्रागैतिहासिक
117. एक महीने में होने वाला = मासिक
118. एक ही जाति का = सजातीय
119. एक ही समय में उत्पन्न होने वाला = समकालीन
120. एक सप्ताह में होने वाला = साप्ताहिक
121. एक हजार वर्षों का समाहार = सहर्सब्दी
122. एक व्यक्ति का राज = एकतंत्र








ऋ से शुरू होने वाले शब्द :-

123. ऋषि की कही गई बात = आर्ष
124. ऋण के रूप में आर्थिक सहायता = तकावी
125. ऋषियों के रहने का स्थान = आश्रम

क , ख से शुरू होने वाले शब्द :-

126. किसी दिन का पूर्ण ज्ञाता = पारंगत
127. किसी टूटी- फूटी इमारत का अंश = भग्नावशेष
128. कनक जैसी आभा वाला = कनकाय
129. कठिनता से प्राप्त होने वाला = दुर्लभ
130. कठिनाई से समझने वाला = दुर्बोध
131. कपड़ा साइन का व्यवसाय करने वाला = दर्जी
132. कम खर्च करने वाला = मितव्ययी
133. कम जानने वाला = अल्पज्ञ
134. कम बोलनेवाला = मितभाषी
135. कर या शुल्क का वह अंश जो किसी कारणवश अधिक से अधिक लिया जाता है = अधिभार
136. करने योग्य = करणीय , कर्तव्य
137. करुण स्वर में चिल्लाना = चीत्कार
138. कर्मचारियों आदि को छांटकर निकालने की क्रिया = छंटनी
139. कल्पना से परे हो = कल्पनातीत
140. कष्टों या काँटों से भरा हुआ = कंटकाकीर्ण
141. कही हुई बात को बार -बार कहना = पिष्टपेषण
142. काँटेदार झाड़ियों का समूह = झाड़झंखाड़
143. कारागार से संबंध रखने वाला = कारागारिक
144. कार्य करने वाला व्यक्ति = कार्यकर्ता
145. किन्ही घटनाओं का कालक्रम से किया गया वृत = इतिवृत
146. किसी से भी न डरना वाला = निडर
147. किसी पद का उम्मीदवार = प्रत्याशी
148. कीर्तिमान पुरुष = यशस्वी
149. कल्पना से परे = कल्पनातीत
150. कुछ दिनों तक बने रहना = टिकाऊ
151. किसी बात को बढ़ा-चढ़ाकर कहना = अतिश्योक्ति
152. क्रम के अनुसार = यथाक्रम
153. किसी कथा के अंतर्गत आने वाली दूसरी कथा = अंत:कथा
154. किसी विषय को विशेषरूप से जानने वाला = विशेषज्ञ
155. किसी काम में दूसरे से बढने की इच्छा या उद्योग = स्पर्द्धा
156. कर या शुल्क का वह अंश जो किसी कारणवश अधिक से अधिक लिया जाता है = अधिभार
157. किसी पक्ष का समर्थन करने वाला = अधिवक्ता
158. किसी कार्यालय या विभाग का वह अधिकारी जो अपने अधीन कार्य करने वाले कर्मचारियों की निगरानी रखे = अधीक्षक
159. किसी सभा , संस्था का प्रधान = अध्यक्ष
160. किसी कार्य के लिए दी जाने वाली सहायता = अनुदान
161. किसी मत या प्रस्ताव का समर्थन करने की क्रिया = अनुमोदन
162. किसी व्यक्ति या सिद्धांत का समर्थन करने वाला = अनुयायी
163. किसी कार्य को बार-बार करना = अभ्यास
164. किसी वस्तु का भीतरी भाग = अभ्यन्तर
165. किसी वस्तु को पाने की तीव्र इच्छा = अभीप्सा
166. किसी प्राणी को न मारना = अहिंसा
167. किसी बात पर बार -बार जोर देना = आग्रह
170. किसी पात्र आदि के अंदर का स्थान , जिसमें कोई चीज आ सके = आयतन
171. किसी अवधि से संबंध रखने वाला = आवधिक
172. किसी देश के वे निवासी जो पहले से वहाँ रहते रहे हैं = आदिवासी
173. किसी नई चीज को बनाना = ईजाद , अविष्कार
174. किसी के बाद उसकी संपत्ति प्राप्त करने वाला = उतराधिकारी
175. किसी एक पक्ष से संबंधित = एकपक्षीय
176. किसी के उपकार को न मानना = कृतघ्न
177. किसी की कृपा से पूरी तरह संतुष्ट = कृतार्थ
178. कारागार से संबंध रखने वाला = कारागारिक
179. किन्हीं निश्चित कार्यों के लिए बनाई गई समिति = कार्यसमिति
180. किसी विचार या निर्णय को कार्यरूप देना = कार्यान्वयन
181. कुन्ती का पुत्र = कौन्तेय
182. किसी के घर की होने वाली तलाशी = खानातलाशी
183. किसी के इर्द -गिर्द घेरा डालने की क्रिया = घेराबंदी
184. किसी को सावधान करने के लिए कही जाने वाली बात = चेतावनी
185. किसी वस्तु का चौथा भाग = चतुर्थाश
186. किसी के संपूर्ण जीवन के कार्यों का विवरण = जीवनचरित
187. किसी ग्रन्थ या टीका की रचना करना = टीकाकार
188. किराये पर चलने वाली मोटरगाड़ी = टैक्सी
189. किसी पद या सेवा से मुक्ति का पत्र = त्यागपत्र
190. किसी भी पक्ष का समर्थन न करने वाला = तटस्थ
191. कुछ निश्चित लम्बाई का कपड़ा = थान
192. किसी के पास रखी हुई दूसरे की वस्तु = थाती , धरोहर , अमानत
193. किसी के साथ संबंध न रखने वाला = निःसंग
194. किसी देवता पर चढ़ने के लिए मारा जाने वाला पशु = बलि
195. जो पहले रहा हो = भूतपूर्व
196. किसी बात का गूढ़ रहस्य जानने वाला = मर्मज्ञ
197. कुछ खास शर्तों द्वारा कोई कार्य कराने का समझौता = संविदा
198. करने की इच्छा = चिकीर्षा
199. कष्ट से सिद्ध होने वाला = कष्टसाध्य
200. कम भोजन करने वाला = अल्पाहारी
201. किसी बात को पंजिका में पढ़ाना = पंजीकरण
202. किसी एक पक्ष से संबंधित = एकपक्षीय
203. खाने की इच्छा = बुभुक्षा
204. खाने योग्य पदार्थ = खाद्य
205. खाने से बचा हुआ झूठा भोजन = उच्छिष्ट
206. खून से रंगा हुआ = रक्तरंजित
207. खेलने का मैदान = क्रीडास्थल

ग , घ से शुरू होने वाले शब्द :



208. गाँव में रहने वाला = ग्रामीण
209. घुमने- फिरने वाला व्यक्ति = पर्यटक
210. गोद लिया हुआ पुत्र = दत्तक
211. गुण -दोषों का विवेचन दिया गया हो = आलोचक
212. घुटनों तक जिसकी बाहें हों = अजानुबाहू
213. गंगा का पुत्र = गांगेय
214. गगन चूमने वाला = गगनचुम्बी
215. गणित शास्त्र के जानकार = गणितज्ञ
216. गिरा हुआ = पतित
217. गुरु के समीप रहनेवाला विद्यार्थी = अन्तेवासी
218. गृह बसा कर रहने वाला = गृहस्थ
219. गोपों को घेरा बांधकर नाचने की क्रिया = रास
220. घास छिलने वाला = घसियारा
221. घुलने योग्य पदार्थ = घुलनशील
222. घूम -फिरकर सौदा बेचने वाला = फेरीवाला
223. घूस लेने वाला = घूसखोर
224. घृणा करने योग्य = घृणास्पद
च , छ से शुरू होने वाले शब्द :-
225. छिपाने योग्य = गोपनीय
226. छोटे से छोटे दोषों की खोज करने वाला = छिंद्रावेषी
227. चन्द्रमा जैसे मुख वाली = चन्द्रमुखी
228. छात्रों के रहने का स्थान = छात्रवास
229. चार मुखों वाला = चतुरानन
230. चार वेदों को जानने वाला = चतुर्वेदी
231. चार राहों वाला = चौराहा
232. चेतन स्वरूप की माया = चिद्विलास
233. चूहे फंसाने का पिंजरा = चूहेदानी
234. चौथे दिन आने वाला ज्वर = चौथिया
235. चारों ओर की सीमा = चौहदी
236. चारों ओर जल से घिरा हुआ भू भाग = टापू
237. चोरी छिपे चुंगी शुल्क आदि दिए बिना माल लाकर बेचनेवाला = तस्कर
238. चौपायों के बाँधने का स्थान = थान
239. चिंता में डुबा हुआ = चिंतित
240. चुनाव में अपना मत देने की क्रिया = मतदान
241. छिपे वेश में रहना = छद्मवेश
242. छ: महीने के समय से संबंधित = छमाही
243. छत में टांगने के शीशे का कमल या गिलास , जिसमें मोमबत्तियां जलती हों = फानूस
244. छोटे कद का आदमी = बौना
245. छ कोनों वाली आकृति = षट्कोण
246. छ -छ महीने पर होने वाला = षाण्मासिक
247. छूत से फैलने वाला रोग = संक्रामक
248. छ: मुँहों वाला = षण्मुख , षडानन
ज , झ से शुरू होने वाले शब्द :-
249. जिसके मन में दया हो = दयालु
250. जो चित्र बनाता हो = चित्रकार
251. जो दिखाई न दे = अदृश्य
252. जो विज्ञान जानता हो = वैज्ञानिक
253. जहाँ इलाज किया जाता हो = अस्पताल
254. जहाँ पुस्तकें पढने के लिए रखी जाती हों = पुस्तकालय
255. जो जुटे ठीक करता हो = मोची
256. जो रोग से ग्रस्त है = रोगी
257. जो मिठाई बनाता हो = हलवाई
258. जो दूसरों के साथ भलाई करे = परोपकारी
259. जिसके माता-पिता न हो = अनाथ
260. जो पढ़ा-लिखा न हो = अनपढ़
261. जो अक्षर जनता है = साक्षर , शिक्षित
262. जिसके अंदर साहस हो = साहसी
263. जिसमें ईमानदारी हो = ईमानदार
264. जो लकड़ी का सामान बनाता हो = बढ़ई
265. जो चित्र बनाता हो = चित्रकार
266. जिसका जन्म न हुआ हो = अजन्मा
267. जिसे गिना न जा सके = अगणित
268. जो कुछ भी नहीं जनता हो = अज्ञ
269. जो बहुत थोडा जनता हो = अल्पज्ञ
270. जिसकी आशा न की गई हो = अप्रत्याशित
271. जो इन्द्रियों से परे हो = अगोचर
272. जो विधान के विपरीत हो = अवैधानिक
273. जो संविधान के प्रतिकूल हो = असंवैधानिक
274. जिसे भले-बुरे का ज्ञान न हो = अविवेक
275. जिसके समान कोई दूसरा न हो = अद्वितीय
276. जिसे वाणी व्यक्त न कर सके = अनिर्वचनीय
277. जैसा पहले कभी न हुआ हो = अभूतपूर्व
278. जो व्यर्थ का व्यय करता हो = अपव्ययी
279. जिसके पास कुछ भी न हो = अकिंचन
280. जिसका निवारण न हो सके = अनिवार्य
281. जिसका परिहार करना संभव न हो = अपरिहार्य
282. जो ग्रहण करने योग्य न हो = अग्राह्मा
283. जिसे प्राप्त न किया जा सके = अप्राप्य
284. जिसका उपचार न हो सके = असाध्य
285. जो तुरंत कविता बना सके = आशुकवि
286. जिसके हाथ में चक्र हो = चक्रपाणि
287. जिसके मस्तक पर चन्द्रमा हो = चन्द्रमौली
288. जो दूसरों के दोष खोजे = छिद्रान्वेषी
289. जानने की इच्छा = जिज्ञासा
290. जीवित रहने की इच्छा = जिजीविषा
291. जीतने की इच्छा वाला = जिगीषु
292. जहाँ सिक्के ढाले जाते हैं = टकसाल
293. जो त्यागने योग्य हो = त्याज्य
294. जिसे पर करना कठिन हो = दुस्तर
295. जंगल की आग = दावाग्नि
296. जिसमें कोई विवाद ही न हो = निर्विवाद
297. जो निंदा के योग्य हो = निन्दनीय
298. जिसे तुरंत उत्तर सूझ जाए = प्रत्युत्पन्नमति
299. जो विधि के अनुकूल हो = वैध
300. जो बहुत बोलता हो = वाचाल
301. जो सदा से चला आ रहा हो = सनातन
302. जो क्षण भर में नष्ट हो जाये = क्षणभंगुर
303. जिसने मुकदमा दायर किया है = वादी
304. जिसके विरुद्ध मुकदमा दायर किया है = प्रतिवादी
305. जो बुलाया न गया हो = अनाहूत
306. जिस नायिका का पति परदेश चला गया हो = प्रोषित पतिका
307. जिसका पति परदेश से वापस आ गया हो = आगत पतिका
308. जिसका पति परदेश जाने वाला हो = प्रव्स्यत्पतिका
309. जिसका मन दूसरी ओर हो = अन्यमनस्क
310. जो लौटकर आया है = प्रत्यागत
311. जो कार्य कठिनता से हो सके = दुष्कर
312. जिसे नापना संभव न हो = असाध्य
313. जिसने किसी दूसरे का स्थान अस्थाई रूप से ग्रहण किया हो = स्थानापन्न
314. जो जन्म लेते ही गीर या मर गया है = आदण्डपात
315. जिसे आश्वासन दिया गया हो = आश्वस्त
316. जिसकी बाहें जनु तक पहुंचती हो = आजानबाहू
317. जो आलोचना के योग्य हो = आलोच्य
318. जो कभी न मरे = अमर
319. जनता में सुनी – सुनाई बातें = किंवदंति
320. जिसकी कोई उपमा न हो = अनुपम
321. जिस पर नियंत्रण न हो = अनियंत्रण
322. जिसे जीता न जा सके = अजेय
323. जो स्पर्श करने योग्य न हो = अस्प्रश्य
324. जिसका कोई रक्षक न हो = अनाथ
325. जो रहा भ्रष्ट हो गया है = पथभ्रष्ट
326. जो पहले घटित नहीं हुआ है = अभूतपूर्व
327. जिस महिला के संतान न होती हो = बंध्या
328. जिस पर कोई ऋण न हो = उऋण
329. जो स्त्री कविता लिखती हो = कवियित्री
330. जो आशा से अधिक हो = आशातीत
331. जो युद्ध में स्थिर हो = युधिष्ठिर
332. जो भूखा हो = बुभुक्षित
333. जो चर पैर से चलता है = चतुष्पद
334. जिसके आर-पर देखा जा सके = पारदर्शी
335. जिस स्त्री को उसके पति ने त्याग दिया हो =परित्यक्ता
336. जिस स्त्री का पति जीवित हो = सधवा
337. जिसकी बुद्धि में तत्काल निर्णय की क्षमता हो = प्रत्युत्पन्नमति
338. जहाँ जाया न जा सके = अगम्य
339. जो सब में व्याप्त हो = सर्वव्यापी
340. जो अच्छे कुल से उत्पन्न हुए हों = कुलीन
341. जो एक ही माँ के उदर से उत्पन्न हुए हों = सहोदर
342. जिसकी दमन करना कठिन हो = दुर्दुमनिय
343. जो क्रमबद्ध इतिहास लिखे जाने से पूर्व का हो = प्रागैतिहासिक
344. जिसे काटा न जा सके = अकाट्य
345. जो करने योग्य न हो = अकरणीय
346. जिसमे कुछ करने की क्षमता न हो = अक्षम
347. जिसकी गणना न की जा सके = अगण्य
348. जिसका चिन्तन न हो सके = अचिंत्य
349. जिसका जन्म नहीं होता = अज
350. जिसे दबाया न जा सके = अदम्य
351. जिसमें दया न हो = अदय
352. जिस पर आक्रमण न हो सके = अनाक्रांत
353. जिसे बुलाया न गया हो = अनाहूत
354. जिसका अनुभव किया गया है = अनुभूत
355. जिसका उच्चारण न किया गया हो = अनुच्चारित
356. जिसका कहीं भी अंत न हो सके = अनंत
357. जिसके बिना काम न चले = अपरिहार्य
358. जो अधिक धन खर्च करता हो = अपव्ययी
359. जिस पर अभियोग लगाया गया हो = अभियुक्त
360. जिसका भेदन न किया जा सके = अभेद्य
361. जो शोच करने योग्य न हो = अशोच्य
362. जो नहीं हो सकता = असंभव
363. जिसे सहन न किया जा सके = असहनीय
364. जिसकी कोई सीमा न हो = असीम
365. जो बहुत कृशकाय हो = तंवंगी
366. जहाँ कोई मनुष्य न रहता हो = निर्जन
367. जिसके भीतर की हवा का तापमान समस्थित में रखा गया हो = वातानुकूलित
368. जो शक्ति का उपासक हो = शाक्त
369. जो सदियों से चला आ रहा हो = सनातन
370. जो केवल अपने सुख के लिए किया जाये = स्वान्तःसुखाय
371. जनता द्वारा चलाया जाने वाला राज = जनतंत्र
372. जन्म से सौ वर्ष का समय = जन्मशती
373. जमी हुई गाढ़ी चीज की मोती तह = थक्का
374. जल में जनमने वाला = जलज
375. जल में रहने वाले जिव जन्तु = जलचर
376. जहाँ औषधि दान स्वरूप मिलती है = दातव्य , औषधालय
377. जहाँ खाना मुफ्त मिलता है = सदाव्रत
378. जहाँ गमन न किया जा सके = अगम्य
379. जहाँ तक सध सके = यथासाध्य
380. जहाँ तक संभव हो सके = यथासंभव
381. जहाँ नदियों का मिलन हो = संगम
382. जहाँ लोगों का मिलन हो = सम्मेलन
383. जान से मारने की इच्छा = जिघांसा
384. जरी किया गया अधिकारिक आदेश = अध्यादेश
385. जिसकी ग्रीवा सुंदर हो = सुग्रीव
386. जिस कागज पर मानचित्र , विवरण या कोष्ठक अंकित हो = फलक
387. जिस पर अभियोग लगाया गया हो = अभियुक्त
388. जिस पर किसी अन्य को कोई अधिकार न हो = एकाधिकार
389. जिस पर दिंनाक लगाया गया हो = दिनांकित
390. जिस पर निर्णय न हुआ हो = अनिर्णीत
391. जिस पर मुकदमा चल रहा हो = अभियुक्त
392. जिस पर लम्बी-लम्बी धारियाँ हों = धारीदार
393. जिस पर विचार न किया गया हो = अविचारित
394. जिस भूमि पर कुछ न उग सके = ऊसर
395. जिस समय बड़ी मुश्किल से भिक्षा मिलती है = दुर्भिक्ष
396. जिस स्थान पर अभिनेता अपना वेश-विन्यास करते हैं = नेपथ्य
397. जिस स्थान पर बैठकर माल खरीदा और बेचा जाता है = फड
398. जिस हँसी से अट्टालिका तक हिल जाये = अट्टहास
399. जिसका उच्चारण ओष्ठ से हो = ओष्ठ्य
400. जिसका कोई अंग बेकार हो = विकलांग
401. जिसका कोई दूसरा उपाय न हो = अनन्योपाय
402. जिसका कोई निश्चित घर न हो = अनिकेत
403. जिसका कोई शत्रु ही न जन्मा हो = अजातशत्रु
404. जिसका कोई हिस्सा टूटकर अलग हो गया हो = खंडित
405. जिसका कोई खंडन न हो सके = अकाट्य
406. जिसका कोई चिन्तन किया जाना चाहिए = चिंतनीय
407. जिसका चित्त एक जगह स्थिर हो = एकाग्रचित
408. जिसका जन्म पीछे हुआ हो = अनुज
409. जिसका जन्म छोटी जाति में हुआ हो = अन्त्यज
410. जिसका तेज निकल गया हो = निस्तेज
411. जिसका पार न पाया जाए = अपार
412. जिसका मन उदार हो = उदारमना
413. जिसका मन महान हो = महामना
414. जिसका मूल नहीं है = निर्मूल
415. जिसका वचन द्वारा वर्णन न किया जा सके = अनिर्वचनीय
416. जिसका वर्णन न किया जा सके = वर्णनातीत
417. जिसका विभाजन न किया जा सके = अविभाजित
418. जिसका संबंध किसी एक देश से हो = एकदेशीय
419. जिसका संबंध उपनिवेश या उपनिवेशों से हो = औपनिवेशिक
420. जिसका संबंध उपन्यास से हो = औपन्यासिक
421. जिसका संबंध पश्चिम से हो = पाश्चात्य
422. जिसका हाथ बहुत तेज चलता हो = क्षिप्रह्स्त
423. जिसकी गहराई की थाह न लग सके = अथाह
424. जिसकी जीविका बुद्धि के बल पर चलती हो = बुद्धिजीवी
425. जिसकी पत्नी साथ में हो = विपत्निक
426. जिसकी परिभाषा देना संभव न हो = अपरिभाषित
427. जिसकी बहुत अधिक चर्चा हो = बहुचर्चित
428. जिसकी बाहें अधिक लम्बी हो = प्रलंबबाहू
429. जिसकी भुजाएँ दीर्घ हो = दीर्घबाहु
430. जिसकी बुद्धि कुश के अग्र की तरह तेज हो = कुशाग्रबुद्धि

431. जिसकी भुजाएँ बड़ी हों = महाबाहु
432. जिसकी सब जगह बदनामी हो = कुख्यात
433. जिसकी सुचना राज पत्र में दी गई हो = राजपत्रित
434. जिसके आने की तिथि न हो = अतिथि
435. जिसके कुल का पता ज्ञात न हो = अज्ञातकुल
436. जिसके नख सूप के समान हैं = शूर्पणखा
437. जिसके नीचे रेखा हो = रेखांकित
438. जिसके पास करोड़ों रुपए हो = करोडपति
439. जिसके पास कोई रोजगार न हो = बेरोजगार
440. जिसके पास लाख रुपए की संपत्ति हो = लखपति
441. जिसके पास शक्ति न हो = निर्बल
442. जिसके मन में कोई कपट न हो = निष्कपट
443. जिसके लम्बे-लम्बे बिखरे बाल हों = झबरा
444. जिसके लोचन सुंदर हों = सुलोचन
445. जिसके विषय में विवाद हो = विवादास्पद
446. जिसको रोकना कठिन हो = दुर्निवार
447. जिसने किसी विषय में मन लगा लिया हो = दत्तचित
448. जिसने गुरु से दीक्षा ली हो = दीक्षित
449. जिसने प्रतिष्ठा प्राप्त की है = लब्धप्रतिष्ठ
450. जिसने बहुत कुछ देखा हो = बहुदर्शी
451. जिसने बहुत कुछ सुन रखा हो = बहुश्रुत
452. जिसने मृत्यु को जीत लिया है = मृत्युंजय
453. जिस पर विश्वास किया गया है = विश्वस्त
454. जिसमे सहन शक्ति हो = सहिष्णु
456. जिसमे किसी प्रकार का विकार हो = विकृत
457. जिसमें ढाल हो = ढालू
458. जिसमें पाँच कोने हों = पंचकोण
459. जिसमे प्रतिभा है = प्रतिभा
460. जसमें मल न हो = निर्मल
461. जिसमें मल हो = मलिन
462. जिसमें सात रंग हों = सतरंगा
463. जिसमें हानि या अनर्थ का भय न हो = निरापट
464. जिसे अधिकार दिया गया हो = अधिकृत
465. जिसे कोई आकांक्षा न हो = निःस्पृह
466. जिसे कोई भ्रम या संदेह न हो = निर्भ्रन्त
467. जिसे क्रय किया गया हो = क्रीत
468. जिसके दस आनन हैं = दशानन
469. जिसे देख या सुनकर रोम खड़े हो जाये = रोमांचकारी
470. जिसे देखकर डर लगे = डरावना
471. जिसे देश से निकाला गया हो = निर्वासित
472. जीवन भर = आजीवन
473. जुआ खेलने का स्थान = फड
474. जेठ का पुत्र = जेठौत
475. जो अत्यंत कष्ट से निवारित किया जा सके = दुर्निवार
476. जो अपनी जगह से न डिगे = अडिग
477. जो अपनी बात से न टले = अटल
478. जो अपनी मातृभूमि छोडकर विदेश में रहता हो = विदेशी
479. जो अपने स्थान या स्थिति से अलग न किया जा सके = अच्युत
480. जो अभी-अभी पैदा हुआ हो = नवजात
481. जो घोड़े का सवार है = अश्वारोही
482. जो आसानी से पचता हो = लघुपाक
483. जो उक्ति बार-बार कही जाए = पुनरुक्ति
484. जो कान को कटु लगे = कर्णकटु
485. जो कानून के अनुसार हो = वैध
486. जो कानून के विरुद्ध हो = अवैध
487. जो काव्य , संगीत आदि का रस न ले = अरसिक
488. जो जन्म से अँधा हो = जन्मांध
489. जो जरायु से जन्मता हो = जरायुज
490. जो तीन गुणों से तीत हो = त्रिगुणातीत
491. जो दूसरे की हत्या करता है = हत्यारा
492. जो दूसरे के अधीन हो = पराधीन
493. जो दो भाषाएँ जानता हो = दुभाषिय
494. जो द्वार का पालन करता है = द्वारपाल
495. जो धरती फोड़ कर जनमता है = उदभिज
496. जो धर्म को जानता है = धार्मिक
497. जो आकाश में चलता है = नभचर
498. जो नया आया हुआ हो = नवागन्तुक
499. जो नष्ट न होने वाला हो = अविनाशी
500. जो नाचता है = नृत्यकार
501. जो न्याय जानता है = नैयायिक

502. जो पहरा देता है = प्रहरी
503. जो पंचाल देश की है = पांचाली
504. जो पुरुष लोहे की तरह बलिष्ठ हो = लौहपुरुष
505. जो पूछने योग्य हो = प्रष्टव्य
506. जो पूर्ण रूप से बहरा हो = वज्रबधिर
507. जो युद्ध का पोत है = युद्धपोत
508. जो प्रणाम करने योग्य हो = प्रणम्य
509. जो रथ पर सवार है = रथी
510. जो राजगद्दी का अधिकारी हो = युवराज
511. जो स्मरण करने योग्य है = स्मरणीय
512. जो हाथों से मुक्त है = मुक्तहस्त
513. जोतने का काम = जुताई
514. झमेला करनेवाला = झमेलिया
515. झी-झी की तेज आवाज करने वाला कीड़ा = झींगुर
516. झूठ बोलने वाला = झूठा
ट , ठ से शुरू होने वाले शब्द :-
517. टाईप करने की कला = टंकण
518. ठकठक करके बर्तन बनाने वाला = ठठेरा
519. ठगों का मोदक जिसमें बेहोश करने वाली = ठगमोदक
520. ठठेरे की बिल्ली जो ठक ठक शब्द से न डरे = ठठेरमंजरिका
521. ठन ठन की आवाज = ठनकार
522. ठीक अपने क्रम से आया हुआ = क्रमागत
523. ठिका लेने वाला = ठीकेदार
524. ठूस कर भरा हुआ = ठसाठस

ड , ढ से शुरू होने वाले शब्द :-

525. डंडी मारने वाला = डंडीमार
526. डफली बजाने वाला = डफालची , डफाली
527. डाका मरने का काम = डकैती
528. डाका मारनेवाला = डकैत
529. ड्योढ़ी पर रहने वाला पहरेदार = ड्योढ़ीदार
530. ढालने का काम = धलाई
531. ढिंढोरा पीटने वाला = ढिंढोरिया
532. ढीला होने का भाव = ढिलाई
533. ढोंग रचनेवाला = ढोंगी
534. ढोलक बजाने वाला = ढोलकिया

त , थ से शुरू होने वाले शब्द :-

535. तीन पहिया वाला वाहन = तिपहिया
536. थोडा ज्ञान रखने वाला = अल्पज्ञ
537. थोड़ी देर में नष्ट होने वाला = क्षणभंगु
र
538. तालाब में जन्म लेने वाला = सरसिज
539. तुरंत बच्चा पैदा करने वाली = सद्यप्रसुता
540. तीव्र बुद्धि वाला = कुशाग्रबुद्धि
541. तत्काल कविता करने वाला = आशुकवि
542. तीनों लोकों में होने वाला = त्रियुगी
543. तत्त्तव को जानने वाला = तत्त्तवज्ञ
544. तप करने वाला = तपस्वी
545. तर्क के द्वारा जो माना गया हो = तर्कसंगत
546. तर्क के द्वारा जो सम्मत है = तर्कसम्मत
547. तीन कालों की बात जानने वाला = त्रिकालज्ञ
548. तीन कालों को देखने वाला = त्रिकालदर्शी
549. तीन नदियों का संगम = त्रिवेणी
550. तीन माह में एक बार होने वाला = त्रैमासिक
551. तीन युगों में होने वाला = त्रियुगी
552. तीन लोकों का समूह = त्रिलोक
553. तीन वेदों को जानने वाला = त्रिवेदी
554. तीन लोकों का स्वामी = त्रिलोकी
555. तेज गति से चलने वाला = द्रुतगामी
556. तेज बुद्धिवा = कुशाग्रबुद्धि
557. तेज वाला = तेजस्वी
558. तैरने की इच्छा = तितीर्षा
द , ध से शुरू होने वाले शब्द :-
559. देखने योग्य = दर्शनीय
560. देखने वाला व्यक्ति = दर्शक
561. दो पहिया वाला वाहन = दुपहिया



562. दूसरे देश से संबंध रखने वाला = विदेशी
563. दोपहर के बाद का समय = अपराह्न
564. देहरी पर रंगों से बनाई गई चित्रकारी = अल्पना
565. देश के बाहर से कोई वस्तु मंगाना = आयात
566. देवी का उपासक = शाक्त
567. धरती और आकाश के बीच का स्थान = अंतरिक्ष
568. दूसरे के हित में अपने आप को संकट में डालना = आत्मोत्सर्ग
569. दोपहर का समय = मध्याह्र
570. दूसरों के गुण दोष बताने वाला = आलोचक
571. दो पैरों से चलने वाला = द्विपदी
572. दूसरों पर आश्रित रहने वाले = पराश्रित
573. धर्म में निष्ठा रखने वाला = धर्मनिष्ठ
574. दूर की सोचने वाला = दूरदर्शी
575. दूसरों की बात में दखल देना = हस्तक्षेप
576. दिल में होने वाला = हार्दिक
577. दया करने वाला = दयालु
578. दूसरों पर उपकार करने वाला = उपकारी
579. दूसरों के पीछे चलने वाला = अनुचर
580. दुख्यांत नाटक = त्रासदी
581. दर्द से भरा हुआ = दर्दनाक
582. देखने योग्य = दर्शनीय
583. दो बार जन्म लेने वाला = द्विज

584. दुःख देने वाला = दुःखद
585. दिन पर दिन = दिनानुदिन
586. द्रुत गमन करने वाला = द्रुतगामी
587. दाव का अनल = दावानल
588. दूसरों के गुणों में दोष ढूंढने की व्रती का न होना = अनसूया
589. देश के लिए अपने प्राण देने वाला = शहीद
590. दूसरों के हित में अपने आप को संकट में डालना = आत्मोत्सर्ग
591. दूसरों की उन्नति को न देख सकना = ईर्ष्या
592. दिन रात खड़े रहने वाले साधु = ठाडेश्वरी
593. दस वर्षों का समय = दशक
594. देने की इच्छा = दित्सा
595. देव या प्रारब्ध संबंधी बातें जानना = देवज्ञ
596. दिन के समय अपने प्रिय से मिलने जाने वाली नायिका = दिवाभिसारिका
597. दशरथ का पुत्र = दशरथि
598. देखने की इच्छा = दिदृक्
599. दंड दिए जाने योग्य = दंडनीय
600. दो भाष्यें बोलने वाला = द्विभाषी
601. दो वेदों को जानने वाला = द्विवेदी
602. देवताओं पर चढ़ाने हेतु बनाया गया दही , घी , जल , चीनी , और शहद का मिश्रण = मधुपर्क
603. दूसरे के स्थान पर काम करने वाला = स्थानापन्न
604. दैहिक , दैविक और भौतिक ताप या कष्ट = त्रिताप
605. दीवार पर बने हुए चित्र = भित्तिचित्र
606. दूसरे के हाथ में गया हुआ = हस्तांतरित
607. धरती और आकाश के बीच का स्थान = अंतरिक्ष
608. धन से संबंध रखने वाला = आर्थिक
609. धन के देवता = कुबेर
610. धर्म में रूचि रखने वाला = धर्मात्मा
611. ध्यान करने योग्य या लक्ष्य = ध्येय
612. धन देने वाला = धनद
613. धर्म या शास्त्र के विरुद्ध कार्य = अधर्म

न , प से शुरू होने वाले शब्द :-

614. प्रतिदिन होने वाला = दैनिक
615. पढने वाला व्यक्ति = पाठक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *